सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राधा कृपा कटाक्ष स्त्रोत l Radha Kripa Kataksh Stotra Lyrics

राधा कृपा कटाक्ष स्त्रोत

भगवान शंकर द्वारा रचित मदनाख़्य प्रेम की अधिष्ठात्री राधा रानी की स्तुति "राधा कृपा कटाक्ष स्त्रोत" :- 


श्रीराधाजी की स्तुतियों में श्रीराधा कृपाकटाक्ष स्तोत्र का स्थान सर्वोपरि है। इसीलिए इसे ‘श्रीराधा कृपाकटाक्ष स्तवराज’ नाम दिया गया है अर्थात् स्तोत्रों का राजा। 


Radha Kripa Kataksh Stotram



1.    मुनीन्द्रवृन्दवन्दिते  त्रिलोकशोकहारिणी, प्रसन्नवक्त्रपंकजे निकंजभूविलासिनी !

               व्रजेन्द्रभानुनंदनी व्रजेन्द्र सूनुसंगते, कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष-भाजनम्  !!


अर्थ - मुनीन्द वृंद जिनके चरणों की वंदना करते हैं तथा जो तीनों लोकों का शोक दूर करने वाली हैं मुस्कानयुक्त प्रफुलिलत मुख कमलवाली,निकुंज भवन में विलास करनेवाली,राजा वृषभानु की राजकुमारी,श्रीब्रज राजकुमार की ह्दयेश्वरी श्रीराधिके!कब मुझे अपने कृपा कटाक्ष का पात्र बनाओगी ?


2.    अशोकवृक्षवल्लरी, वितानमण्डपस्थिते,  प्रवालज्वालपल्लव प्रभारूणाङि्घ्कोमले !

       वराभयस्फुरत्करे प्रभूतसम्पदालये, कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष -भाजनम् !!


अर्थ - अशोक की वृक्ष-लताओं से बने हुए 'लता मंदिर' में विराजमान और मूँगे अग्नि नवीन लाल पल्लवों के समान अरूण कांतियुक्त कोमल  चरणोंवाली,भक्तों को अभीष्ट वरदान देनेवाली तथा अभयदान देने के लिए उत्सुक रहनेवाले कर कमलों वाली अपार ऐश्वर्य की भंङार स्वामिनी श्री राधे मुझे कब अपने कृपा कटाक्ष का अधिकारी बनाओगी.


 3.    अनंगरंगमंगल प्रसंगभंगुरभ्रुवां , सुविभ्रुमं ससम्भ्रुमं दृगन्तबाणपातनैं: !

निरन्तरं वशीकृत प्रतीतनन्दनन्दने , कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष भाजनम्  !! 


अर्थ- प्रेम कीड़ा के रंगमंच पर मंगलमय प्रसंग में बाँकी भृकुटी करके, आश्चयर्य उत्पन्न करते हुए सहसा कटाक्ष रूपी वाणों की वर्षा से श्रीनन्दनन्दन को निरंतर बस में करनेवाली हे सरवेश्वरी! अपने कृपा कटाक्ष का पात्र मुझे कब बनाओगी ?


4.    तड़ित्सुवर्णचम्पक प्रदीप्तगौरविग्रहे, मुखप्रभापरास्त-कोटिशारदेन्दुमण्ङले !विचित्रचित्र-संचरच्चकोरशावलोचने , कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष भाजनम्  !!

अर्थ - बिजली,स्वर्ण तथा चम्पा के पुष्प के समान सुनहरी कांति से देदीप्यमान गोरे अंगोंवाली अपने मुखारविंद की चाँदनी से करोड़ों शरच्चंदों को जीतनेवाली, क्षण-क्षण में विचित्र चित्रों की छटा दिखानेवाले चंचल चकोर के बच्चे के सदृश विलोचनों वाली, हे जगज्जननी !क्या कभी मुझे अपने कृपाकटाक्ष का अधिकारी बनाओगी.


5.    मदोन्मदातियौवने प्रमोद मानमण्डिते, प्रियानुरागरंजिते कलाविलासपण्डिते !

अनन्यधन्यकुंजराज कामकेलिकोविदे, कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष-भाजनम् !!

अर्थ- अपने अत्यंत रूप-यौवन के मद से मत रहनेवाली आनंद भरा मन ही जिनका सवोतम भूषण है,प्रियतम के अनुराग रंगी हुई, विलास की प्रवीण अनन्य भक्त गोपिकाओं से धन्य हुए निकुंजराज्य के प्रेम कौतुक विघा की विदुषी श्रीराधिके! मुझे अपने कृपा कटाक्ष का पात्र कब बनाओगी.


6.    अशेषहावभाव धीरहीर हार भूषिते , प्रभूतशातकुम्भकुम्भ कुम्भिकुम्भसुस्तनी !

प्रशस्तमंदहास्यचूर्णपूर्णसौख्यसागरे, कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष भाजनम् !!  


अर्थ-  संपूर्ण हाव-भावरूपी श्रृंगारों तथा धीरता एंव हीरे की हारों से विभूषित अंगोंवाली शुद्ध स्वर्ण के कलशों के समान एंव गयनि्दनी के गंडस्थल के समान मनोहर पयोंधरोंवाली प्रशांसित मंद मुस्कान से परिपूण आंनद सिंधु के सदृश श्रीराधे !क्या मुझे कभी अपनी कृपा दृषि्ट से कृतार्थ करोगी ?


7.    मृणालबालवल्लरी तरंगरंगदोर्लते , लताग्रलास्यलोलनील लोचनावलोकने

ललल्लुलन्मिलन्मनोज्ञ मुग्ध मोहनाश्रये , कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष भाजनम्!!  


अर्थ-  जल की लहरों से हिलते हुए कमल के नवीन नाल के समान जिनकी कोमल भुजाएँ हैं पवन से जैसे लता का एक अग भाग नाचता है, ऐसे चंचल लोंचनों से नीलिमा झलकाते हुए जो अवलोकन करती हैं ललचाने वाले,लुभाकर पीछे-पीछे फिरनेवाले,मिलन में मन को हरनेवाले मुग्ध मनमोहन को आश्रय देनेवाली,हे वृषभानु किशोरी! कब अपने कृपा अवलोकन द्वारा मुझे माया जाल से छुड़ाओगी.


8.  सुवर्णमलिकांचितेत्रिरेखकुम्बेकण्ठगे,त्रिसूत्रमंगलीगुण त्रिरत्नदीप्तिदीधिति !

सलोलनीलकुन्तले प्रसुन्गुच्छगुम्फिते, कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष-भाजनम् !!


अर्थ - स्वर्ण की मालाओ से बिभूषित और तीन रेखाओ वाले शंख की छटा सदृश सुन्दर कंठ वाली और तीन जिनकेकंठ में मंगल मय त्रिसूत्र बंधा हुआ है, जिनमे तीन रंग के रत्नों का भूषण लटक रहा है, रत्नों से देदीप्यमान किरणे निकल रही है. दिव्य पुष्पों के गुच्छों से गूँथे हुए काले घुँघराले लहराते केशोवाली हें सर्वेश्वरी! श्री राधे कब मुझे अपनी कृपा द्रष्टि से देखकर अपने चरण कमलों के दर्शन का अधिकारी बनाओगी .


9. नितंबोंबिम्बलम्बमान पुष्पमेखलागुण, प्रशस्रत्नकिंकणी  कलापमध्यमंजुले !

करीन्द्रशुण्डदण्डिका वरोहसोभगोरुके ,कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष भाजनम्!!  


अर्थ - कटिमंडल में माणिमय किंकिणी सुशोभित है जिसमे सोने के फूल रत्नों से जड़े हुए लटक रहे है और उसकी प्रशसनीय झंकार अत्यंत मनोहर गजेन्द्र की सूंड के समान जिनकी जंघाए अत्यंत सुन्दर है ऐसी श्री राधे मुझ पर कृपा करके कब संसार सागर से पार लगाओगी.  


10.     अनेकमन्त्रनादमंजु नूपुरारवस्खलत् , समाजराजहंसवंश निक्वणातिगौरवे  !

विलोलहेमवल्लरी विडम्बीचारूचंक्रमे , कदा करिष्यसीह मां कृपा-कटाक्ष-भाजनम् !!


अर्थ - अनेकों वेदमंत्रो की सुमधुर झनकार करनेवाले स्वर्णमय नूपुर चरणों में ऐसे प्रतीत होते हैं! मानो मनोहर हसों की पंकि्त गूँज रही हो, चलते समय अंगों की छवि है! ऐसी लगती मानो स्वर्णलता लहरा रही हो ! हे जगदीश्वरी श्रीराधे!क्या कभी मैं आपके चरण-कमलों का दास हो सकूँगा?


11.    अनन्तकोटिविष्णुलोक - नम्रपद्ममजार्चीते , हिमाद्रिजा पुलोमजा-विरंचिजावरप्रदे !

अपारसिद्धिवृद्धिदिग्ध - सत्पदांगुलीनखे , कदा करिष्यसीह मां कृपा -कटाक्ष भाजनम् !!


अर्थ - अनंत कोटि बैकुंठो की स्वामिनी श्रीलक्ष्मी जी आपकी पूजा करती हैं तथा श्रीपार्वती जी, इन्द्राणी जी और सरस्वती जी   ने भी आपकी पूजा कर वरदान पाया है ! आपके चरण-कमलों की एक उंगली के नख का भी ध्यान करने मात्र से अपार सिद्धि का समूह बढ़ने लगता है! हे करूणामयी! आप कब मुझ को वात्सल्य-रस भरी दृषि्ट से देखोगी.


12.  मखेश्वरी क्रियेश्वरी स्वधेश्वरी सुरेश्वरी , त्रिवेदभारतीयश्वरी प्रमाणशासनेश्वरी !  

रमेश्वरी क्षमेश्वरी प्रमोदकाननेश्वरी , ब्रजेश्वरी ब्रजाधिपे श्रीराधिके नमोस्तुते !! 

 

अर्थ- सब प्रकार के यज्ञों की आप स्वामिनी हैं! संपूर्ण क्रियाओं की स्वामिनी,स्वधादेवी की स्वामिनी सब देवताओं की [ॠग,यजु ,साम] स्वामिनी प्रमाण शासन शास्त्र की स्वामिनी, श्रीरमा देवी की स्वामिनी , श्रीक्षमा देवी की स्वामिनी और [अयोध्या के] प्रमोद वन की स्वामिनी[श्रीसीता ] आप ही हैं  हे राधिके ! कब मुझे कृपा कर अपनी शरण में स्वीकार कर पराभकि्त प्रदान करोगी? हे ब्रजेश्वरी!हे ब्रज की अधीष्ठात्री श्रीराधिके! आपको मेरा बारंबार प्रणाम है.


13.  इतीदमद्भुतस्तवं निशम्य भानुनंदनी , करोतु संततं जनं कृपाकटाक्ष -भाजनम् !  

भवेत्तदैव संचित-त्रिरूपकर्मनाशनं , लभेत्तदाब्रजेन्द्रसूनु -मण्डलप्रवेशनम् !!  


अर्थ- हे वृषाभानुनंदिनी! मेरी इस विचित्र स्तुति को सुनकर सर्वदा के लिए मुझ दास को अपनी दयादृषि्ट का अधिकारी बना लो बस आपकी दया दृषि्ट का अधिकारी बना लो बस आपकी दया ही से तो मेरे [प्रारब्ध संचित और क्रियामाण] इन तीनों प्रकार के कर्मों का नाश हो जाएगा और उसी क्षण श्रीकृष्ण के नित्य मंडल[दिव्यधाम की लीलाओं में] सदा के लिए प्रवेश हो जाएगा.


14.  राकायां च सिताष्टम्यां दशम्यां च विशुद्धया ,एकादश्यां त्रयोदश्यां यः पठेत्साधकः सुधी !  

यं यं कामयते कामं तं तं  प्राप्नोति साधकः, राधाकृपाकटाक्षेण भक्ति : स्यात्  प्रेमलक्षणा !!  


अर्थ - पूर्णिमा के दिन,शुक्लपक्ष की अष्टमी या दशमी को तथा दोनों की एकादशी और त्रयोदशी को जो शुद्ध बुद्धिवाला भक्त   इस-स्त्रोत का पाठ करेगा वह जो भावना करेगा वही प्राप्त होगा, अन्यथा निष्काम भावना से पाठ करने पर श्रीराधाजी की दयादृष्टि से पराभक्ति प्राप्त होगी.

More article 

सरफरोशी की तमन्ना

प्यार का पहला खत

"जय जय श्री राधे"

🙏🙏🙏

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Google Mera Naam Kya Hai

Google Mera Naam Kya Hai | जानिए गूगल से बात कैसे करे   यदि आप गूगल से बात करना चाहते हैं तो गूगल मेरा नाम क्या है पूछने की बजाए गूगल असिस्टेंट का इस्तेमाल करना चाहिए आप यदि एंड्राइड फोन फोन यूजर है तो जीमेल आईडी जरूर बनाई होगी आपने जो  gmail id मे नाम दिया है वहीं गूगल असिस्टेंट आपको बताएगा गूगल के पास आपके बहुत सारे डेटा सेफ है आपका लाइव लोकेशन आफ साल में कितने किलोमीटर है चले हैं कितने देश घूमे हैं यह सब डाटा गूगल के पास होता है  गूगल का सबसे ज्यादा पॉपुलर प्रोडक्ट सर्च इंजन है लेकिन गूगल के अन्य कई प्रोडक्ट भी है जिससे आप बातें कर सकते हैं इसमें से एक है गूगल असिस्टेंट गूगल असिस्टेंट द्वारा आप आपको कोई भी सवाल सवाल पूछना हो तो वह आपको बोलकर आवाज मे बताएगा  गूगल असिस्टेंट से कई डिवाइस कनेक्ट करके आप कमांड देकर काम करवा सकते हैं जैसे फैन चलाना लाइट बंद करना लाइट चालू करना फोन लगाना यूट्यूब खोलना फेसबुक खोलना यह सारे कमांड बोलकर कर सकते हैं  Google Mera Naam Kya Hai | Google Assistant Setup एक बार जब आप Play Store की मुख्य स्क्रीन पर हों, तो स्क्रीन के खोज बार पर टैप करें और खोज फ़ील्

Pav Bhaji Recipe in Hindi

पाव भाजी मिक्स सब्जियों से बनाई जाती है। बच्चों को सब्जी खिलाने का यह एक आसान तरीका भी है। हम घर पर आसानी से भी बना सकते है। और खाने में भी बहुत ही टेस्टी होती है।  इसे पाव , स्लाइस ब्रेड ,रोटी या आप जिसके साथ खाना चाहे खा सकते है। आज हम भाजी को पाव के साथ खाने के लिए बनाएंगे । Pav Bhaji Recipe in Hindi Pav Bhaji Recipe in Hindi सामग्री:      2 प्याज, बारीक काटा हुआ      1 टमाटर, बारीक काटा हुआ      2-3 लाल मिर्च, बारीक काटा हुआ      1 कप शिमला मिर्च, बारीक काटा हुआ      1 कप मटर      2 आलू, छोटे क्यूब्स में काटा हुआ      2-3 लौंग      1 बड़ी इलाइची      1 छोटा चम्मच जीरा      1 छोटा चम्मच लाल मिर्च पाउडर      1 छोटा चम्मच हल्दी पाउडर      1 छोटा चम्मच धनिया पाउडर      नमक स्वाद अनुसर      2-3 बड़े चम्मच पाव भाजी मसाला      3-4 बड़े चम्मच मखान      धनिया, बारीक काटा हुआ पाव भाजी बनाने की विधि एक बार्टन में पानी उबलने के लिए रख दें। जब पानी उबलने लगे तो उसमें आलू और मटर डाल दें। उन्हें तब तक उबालें जब तक वो नरम न हो जाए। जब ये नरम हो जाए तो उसमें छान कर ठंडा पानी डाल दें और फिर उन्हें छ

Make sev Tamatar ki sabji

सेव टमाटर में आम तौर पर टमाटर के अचारी ग्रेवी को मसालों से पकाकर सेव से ढका जाता है, जो पतले, कुरकुरे बेसन के नूडल्स होते हैं। इसके विभिन्न स्वाद और ज़ायके के संयोजन से यह एक मजेदार डिश बनता है, जो पुरी या चपाती के साथ खाया जाता है। सेव टमाटर का माना जाता है कि यह गुजरात से उत्पन्न हुआ है, जो एक राज्य है जिसे उसके शाकाहारी रसोईघर की विरासत से जाना जाता है। समय के साथ, यह भारत के अन्य हिस्सों में फैल गया है और वहां के स्वाद और पसंद के अनुसार अनुकूलित हो गया है। Sev Tamatar ki sabji banane ki vidhi  सामग्री - ढाबे वाली सेव टमाटर की सब्जी रतलामी सेव टमाटर की सब्जी दूध सेव की सब्जी कैसे बनाते हैं गुजराती सेव टमाटर की सब्जी सेव टमाटर सब्जी - 2 बड़े पके हुए टमाटर, बारीकी से कटा हुआ - 1/2 कप सेव (पतले कुरकुरे बेसन के नूडल्स) - 1 बड़ा चम्मच तेल या घी - 1/2 छोटी चम्मच जीरा - 1/4 छोटी चम्मच हींग (असाफोटिडा) - 1/4 छोटी चम्मच हल्दी पाउडर - 1/2 छोटी चम्मच लाल मिर्च पाउडर (स्वाद के अनुसार बदलें) - 1/2 छोटी चम्मच गरम मसाला - 1/2 छोटी चम्मच चीनी (वैकल्पिक) - नमक स्वादानुसार - ताजा धनिया पत्तियां सजाने