सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कार्तिक माह की कहानी

 कार्तिक माह की  कहानी 

एक समय की बात है किसी नगर में एक बूढ़ा व्यक्ति रहता था और उसकी सात बहुएँ थी. एक बार कार्तिक का महीना आया और उसने अपनी बहुओं से कहा कि मैं कार्तिक का स्नान करुंगा, क्या तुम इसे निभा दोगी? सात में से छ: बहुओं ने मना कर दिया लेकिन बड़ी बहू ने कहा कि मैं निभा दूंगी. बूढ़ा हर रोज सुबह उठता और नदी पर स्नान कर घर आता. गीली धोती को वह बड़ी बहू के आँगन में सुखा देता. जैसे-जैसे उस गीली धोती में से पानी की बूँदें जमीन पर गिरती वैसे ही वह हीरे मोतियों में बदल जाती.

कार्तिक मास की कहानी लिखी हुई

कार्तिक मास की कहानी



धोती से हीरे-मोती गिरते देख बाकी छ: बहुओं से रहा नही गया और वे बोली कि हम भी बूढ़े को अपने यहाँ नहाने को बोलते हैं. उन्होने कहा कि पिताजी आप कल से हमारे यहाँ कार्तिक नहा लेना. बूढ़े ने कहा कि ठीक है, मुझे तो नहाना ही है, मैं तुम्हारे यहाँ नहा लूंगा. बूढ़ा सुबह सवेरे स्नान कर के आया और धोती उसने दूसरी बहू के आँगन में सुखाने के लिए डाल दी लेकिन यहाँ हीरे-मोती की बजाय कीचड़ टपकने लगा. बहुओं ने यह देखा तो कहा कि आप हमारे यहाँ पाप का स्नान कर रहे हो इसलिए यहाँ से जाओ और बड़ी बहू के यहाँ ही स्नान करो.

बूढ़ा वापिस बड़ी बहू के यहाँ आया और कार्तिक का स्नान करने लगा. स्नान कर के उसने फिर धोती सुखाई तो फिर से हीरे-मोती गिरने लगे. अब कार्तिक का महीना समाप्त होने को था. बूढ़ा चिंता में पड़ गया तो बड़ी बहू ने इसका कारण पूछा. उसने कहा कि कार्तिक स्नान समाप्त होने को है और मेरा मन है कि मैं सारे परिवार को एक दिन खाने का न्यौता दूँ. बड़ी बहू ने कहा कि पिताजी! इसमें चिंता की क्या बात है, आप सभी को बुला लें मैं खाना बना दूंगी. बूढ़ा सभी को निमंत्रण देने गया तो बाकी बहुओं ने कहा कि जब तक यह घर पर रहेगी हम खाने पर नहीं आएंगे.

बूढ़ा फिर से चिंता में घिर गया कि ऎसे कैसे होगा और सूखने लगा. बूढ़े को सूखते देख बड़ी बहू ने कहा कि पिताजी अब आपको क्या चिंता है? बूढ़े ने बाकी छ: बहुओं वाली बात बड़ी बहू को बता दी जिसे सुन वह बोली कि पिताजी ठीक है. मैं खाना बनाकर रख जाऊँगी और उसने वैसा ही किया. खाना बनाकर रख दिया और अपने लिए चार रोटी लेकर खेत पर चली गई. इधर छहो बहुओं ने खाना खा लिया लेकिन जाने से पहले बाकी बचे खाने में कंकड़ पत्थर डाल गई कि बड़ी बहू आएगी तो परेशान होगी.

इधर खेत में बैठकर बड़ी बहू कहने लगी कि – राम जी की चिड़िया, राम जी का खेत. चुग लो चिड़िया भर-भर पेट. मेरे ससुरे ने घर में जगह दी है और मैने खेत में. चिड़िया को बाजरा डाल वह घर आ गई. घर आई तो बूढ़ा फिर उदास बैठा था. उसने फिर पूछा कि यह उदासी क्यूँ? सब ठीक-ठाक निपट गया ना! वह बोला कि हाँ सब ठीक निपट गया लेकिन वह तेरी देवरानियाँ बाकी बचे खाने में कंकड़-पत्थर व मिट्टी डाल गई. बहू ने कहा कि कोई बात नहीं पिताजी, मैं तो अपने लिए चार रोटी फिर बना लूँगी.

बहू बूढ़े से बात कर घर के भीतर जाकर खाने को देखती है लेकिन वह देखती हैं कि जिस खाने में वह सब कंकड़-पत्थर डालती हैं वह हीरे-मोती में बदल गए हैं. घर की जगह महल खड़ा हो गया है और धन-दौलत से भर गया है. अन्न के भंडार घर में भरे पड़े हैं. वह बूढ़े को बुलाकर कहती है कि पिताजी आपने तो कहा था कि मेरे लिए कुछ नहीं बचा है लेकिन यहाँ तो हीरे-मोतियों के भंडार हो गए हैं. पूरे घर में धन की वर्षा हो रही है. साधारण सा घर महल में बदल गया है.

बूढ़ा सब चीजें देखकर बोला कि – बेटी तुमने सच्चे मन से कार्तिक स्नान सच्चे मन से निभाया था लेकिन बाकी बहुओं ने पापी मन से इसे निभाया. इसलिए कार्तिक देवता तुमसे प्रसन्न हुए और यह फल दिया. हे कार्तिक देवता ! जैसे आपने बड़ी बहू की सुनी वैसे ही आप सभी की सुनना.


कार्तिक मास की कहानी

🙏🏻जय श्री हरि🙏🏻

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Google Mera Naam Kya Hai

Google Mera Naam Kya Hai | जानिए गूगल से बात कैसे करे   यदि आप गूगल से बात करना चाहते हैं तो गूगल मेरा नाम क्या है पूछने की बजाए गूगल असिस्टेंट का इस्तेमाल करना चाहिए आप यदि एंड्राइड फोन फोन यूजर है तो जीमेल आईडी जरूर बनाई होगी आपने जो  gmail id मे नाम दिया है वहीं गूगल असिस्टेंट आपको बताएगा गूगल के पास आपके बहुत सारे डेटा सेफ है आपका लाइव लोकेशन आफ साल में कितने किलोमीटर है चले हैं कितने देश घूमे हैं यह सब डाटा गूगल के पास होता है  गूगल का सबसे ज्यादा पॉपुलर प्रोडक्ट सर्च इंजन है लेकिन गूगल के अन्य कई प्रोडक्ट भी है जिससे आप बातें कर सकते हैं इसमें से एक है गूगल असिस्टेंट गूगल असिस्टेंट द्वारा आप आपको कोई भी सवाल सवाल पूछना हो तो वह आपको बोलकर आवाज मे बताएगा  गूगल असिस्टेंट से कई डिवाइस कनेक्ट करके आप कमांड देकर काम करवा सकते हैं जैसे फैन चलाना लाइट बंद करना लाइट चालू करना फोन लगाना यूट्यूब खोलना फेसबुक खोलना यह सारे कमांड बोलकर कर सकते हैं  Google Mera Naam Kya Hai | Google Assistant Setup एक बार जब आप Play Store की मुख्य स्क्रीन पर हों, तो स्क्रीन के खोज बार पर टैप करें और खोज फ़ील्

Pav Bhaji Recipe in Hindi

पाव भाजी मिक्स सब्जियों से बनाई जाती है। बच्चों को सब्जी खिलाने का यह एक आसान तरीका भी है। हम घर पर आसानी से भी बना सकते है। और खाने में भी बहुत ही टेस्टी होती है।  इसे पाव , स्लाइस ब्रेड ,रोटी या आप जिसके साथ खाना चाहे खा सकते है। आज हम भाजी को पाव के साथ खाने के लिए बनाएंगे । Pav Bhaji Recipe in Hindi Pav Bhaji Recipe in Hindi सामग्री:      2 प्याज, बारीक काटा हुआ      1 टमाटर, बारीक काटा हुआ      2-3 लाल मिर्च, बारीक काटा हुआ      1 कप शिमला मिर्च, बारीक काटा हुआ      1 कप मटर      2 आलू, छोटे क्यूब्स में काटा हुआ      2-3 लौंग      1 बड़ी इलाइची      1 छोटा चम्मच जीरा      1 छोटा चम्मच लाल मिर्च पाउडर      1 छोटा चम्मच हल्दी पाउडर      1 छोटा चम्मच धनिया पाउडर      नमक स्वाद अनुसर      2-3 बड़े चम्मच पाव भाजी मसाला      3-4 बड़े चम्मच मखान      धनिया, बारीक काटा हुआ पाव भाजी बनाने की विधि एक बार्टन में पानी उबलने के लिए रख दें। जब पानी उबलने लगे तो उसमें आलू और मटर डाल दें। उन्हें तब तक उबालें जब तक वो नरम न हो जाए। जब ये नरम हो जाए तो उसमें छान कर ठंडा पानी डाल दें और फिर उन्हें छ

Make sev Tamatar ki sabji

सेव टमाटर में आम तौर पर टमाटर के अचारी ग्रेवी को मसालों से पकाकर सेव से ढका जाता है, जो पतले, कुरकुरे बेसन के नूडल्स होते हैं। इसके विभिन्न स्वाद और ज़ायके के संयोजन से यह एक मजेदार डिश बनता है, जो पुरी या चपाती के साथ खाया जाता है। सेव टमाटर का माना जाता है कि यह गुजरात से उत्पन्न हुआ है, जो एक राज्य है जिसे उसके शाकाहारी रसोईघर की विरासत से जाना जाता है। समय के साथ, यह भारत के अन्य हिस्सों में फैल गया है और वहां के स्वाद और पसंद के अनुसार अनुकूलित हो गया है। Sev Tamatar ki sabji banane ki vidhi  सामग्री - ढाबे वाली सेव टमाटर की सब्जी रतलामी सेव टमाटर की सब्जी दूध सेव की सब्जी कैसे बनाते हैं गुजराती सेव टमाटर की सब्जी सेव टमाटर सब्जी - 2 बड़े पके हुए टमाटर, बारीकी से कटा हुआ - 1/2 कप सेव (पतले कुरकुरे बेसन के नूडल्स) - 1 बड़ा चम्मच तेल या घी - 1/2 छोटी चम्मच जीरा - 1/4 छोटी चम्मच हींग (असाफोटिडा) - 1/4 छोटी चम्मच हल्दी पाउडर - 1/2 छोटी चम्मच लाल मिर्च पाउडर (स्वाद के अनुसार बदलें) - 1/2 छोटी चम्मच गरम मसाला - 1/2 छोटी चम्मच चीनी (वैकल्पिक) - नमक स्वादानुसार - ताजा धनिया पत्तियां सजाने